roce meaning in hindi
    4.6/5 - (20 votes)

    roce meaning in hindi
    इस से पहले हम Return on Equity के बारे में जान चुके है।

    ROE से हमें पता चलता है, की कंपनी Equity यानी निवेशकों और मालिक के पैसो पर कितना रिटर्न बना रही है।

    लेकिन कंपनी ने अपने व्यापार के लिए क़र्ज़ भी तो लिया होता है।

    तो हमें यह कैसे पता चले की कंपनी लिए हुए क़र्ज़ का उपयोग अच्छी तरह से कर रही है या नहीं ?

    यह जान ने के लिए Return on Capital Employed का उपयोग होता है।

     

    क्या है Return on Capital Employed? (ROCE Meaning in Hindi)


    Return on Capital Employed में कंपनी द्वारा उपयोग किए जाने वाले सभी पैसो को लिया जाता है।

    और उसके ऊपर कंपनी कितना रिटर्न दे रही है, वही है Return on Capital Employed .

    Return on Capital Employed को ROCE भी कहा जाता है। roce meaning in hindi

    ROCE हमें यह जानकारी देता है, की कंपनी व्यापार में लगाए हुए सभी पैसो पर कितना रिटर्न दे रही है।

    यह रिटर्न कम से कम क़र्ज़ के ब्याज से ज्यादा होना चाहिए तभी निवेशकों को कुछ रिटर्न मिलेगा।

    वर्ना सिर्फ ब्याज भरने में ही सारा मुनाफा चला जाएगा।

    और अगर कंपनी क़र्ज़ के ब्याज से भी कम रिटर्न दे रही है, तो कंपनी को Reserves & Surplus में से क़र्ज़ का ब्याज चुकाना पड़ेगा।

    जो की Equity निवेशकों के लिए नुकसान की बात है। roce meaning in hindi

    एक निवेशक के तौर पर हमें किसी भी कंपनी के लिए ROCE जरूर देखना चाहिए।

    तो आइए जानते है,

    Return on Capital Employed Formula क्या है ?


    किसी भी कंपनी का ROCE खोजने के लिए हमें उसके EBIT को Total Capital Employed से विभाजित करना पड़ेगा।

    Return on Capital Employed

    EBIT के बारे में हम पहले ही जान चुके है।

    EBIT का मतलब है, Earnings Before Interest and Tax .

    यानी कंपनी का मुनाफा वह भी ब्याज और टैक्स देने से पहले। roce meaning in hindi

    EBIT के बारे में ज्यादा जानकारी आप यहाँ से ले सकते है : EBIT क्या है ?

    Total Capital Employed यानी व्यापार में लगा हुआ पूरा पैसा।

    इसमें कंपनी की पूरी Equity यानी Equity Share Capital , Reserves & Surplus और Preferred Equity सामिल है।

    Preferred Equity वह पैसा है, जो कंपनी ने Preferred Share जारी कर के जुटाया है।

    Preferred Shares के बारे में हम About Share Market in Hindi में जान चुके है।

    Equity के अलावा Total Capital Employed में Short Term Loan और Long Term Borrowings भी सामिल है।

    ROCE का एक उदाहरण :


    कंपनी ABC के लिए , roce meaning in hindi

    Equity Share Capital है 10 करोड़ , Reserves & Surplus है 100 करोड़ , Preferred Equity 20 करोड़

    और Short Term Debt कुछ भी नहीं है लेकिन Long Term Borrowings 70 करोड़ का है।

    इस तरह Total Capital Employed = 10 + 100 + 20 + 70 = 200 करोड़ होगा।

    और उसका EBIT है 30 करोड़roce meaning in hindi

    तो उसके लिए ROCE = 30 करोड़ / 200 करोड़ = 0.15 यानी 15 % .

    अब क्या यह रिटर्न अच्छा है, या नहीं ?

    इसके लिए हमें यह जानना चाहिए की कंपनी ने Long Term Borrowings कितना ब्याज देना पड़ेगा।

    अगर ऊपर के उदाहरण में कंपनी ने Long Term Borrowings पर कंपनी को 30 करोड़ का ही ब्याज चुकाना है, तो Equity निवेशक कुछ लाभ नहीं होगा।

    अगर 30 करोड़ से ज़्यादा ब्याज चुकाना है, तो यह ब्याज Reserves & Surplus में से देना पड़ेगा।

    जो Equity निवेशक के लिए नुकसान करने वाली बात है। roce meaning in hindi

    इस से अच्छा तो वह किसी बैंक में पैसा Fixed Deposit करते।

    कम से कम उसमे जोखिम तो नहीं होता।

    इस लिए किसी भी तरह का निवेश करने से पहले उस कंपनी का ROCE जरूर पता करे।

    FAQs

    ROCE का full form क्या है?

    ROCE का full form है, Return on Capital Employed (रिटर्न ऑन केपिटल एम्प्लोएड)।

    ROCE कम होने का कारण क्या है?

    ROCE कम होने का कारण है कंपनी किए गए निवेश पर अच्छा मुनाफा नहीं कमा रही है।

    ROCE और ROE मे क्या अंतर है?

    ROE मतलब कंपनी पर शेयर धारको के पैसे मतलब की Equity पर कितना रिटर्न दिया है, जबकि ROCE मे शेयर धारको के पैसे के साथ साथ किसी भी प्रकार का कर्ज़ भी जोड़ा जाता है।

    निष्कर्ष

    तो दोस्तों यह थी Return on Capital Employed के बारे में जानकारी। उम्मीद करता हु यह आप लोगो के लिए उपयोगी साबित होगी।

    अगर आपके लिए यह जानकारी उपयोगी हो तो आप इस post को अच्छे star की रेटिंग देकर हमे मदद कर सकते है। (Star Rating देने का विकल्प आपको इस पोस्ट मे सबसे ऊपर Photo के नीचे मिलेगा।)

    ऐसी ही उपयोगी जानकारी अपने Email पर free में पाने के लिए हमारे Free Weekly Newsletter को जरूर Subscribe करे।

    अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

    By Gaurav

    Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।