balance sheet in hindi
    4.6/5 - (5 votes)

    इस से पहले हम कंपनी के Profit & Loss Statement के बारे में जान चुके है, अब हम कंपनी के अगले Financial Statement, Balance sheet in Hindi के बारे में जानेंगे।

    क्या है Balance Sheet of a Company? (Balance Sheet in Hindi)


    वैसे तो हम Balance Sheet के बारे में सामान्य जानकारी Financial Statement of a Company की पोस्ट में ले चुके है।

    और Balance Sheet के ज्यादातर sections जैसे Assets और Liabilities, Equity के बारे में भी जाना था।

    हमने जाना था की Balance Sheet कंपनी की संपत्तिया (Assets) और दायित्वों (Liabilities) को दर्शाती है।

    Balance Sheet पढ़कर हम किसी भी कंपनी की आर्थिक स्थिति का अनुमान लगा सकते है।

    जैसे कंपनी के पास कौन कौन सी संपत्ती है ? जैसे जमींन, मशीन उसकी Products आदी।

    इसके अलावा कंपनी के ऊपर कितना लम्बे समय का और कम समय का क़र्ज़ है आदी।

    इस लिए आज हम DMart की Balance Sheet को समझेंगे।

    Balance sheet in Hindi

    Balance Sheet of a Company Example :

    balance sheet of a company%2B%25281%2529

    यहाँ पर मैंने DMart की Balance Sheet में से Assets का Part दिया है।

    जिसमे दो तरह के Assets,  Non – Current Assets और Current Assets के बारे में जानकारी दी है।

    यह दोनों ही तरह के Assets के बारे में भी हम जान चुके है।

    हम देख सकते है, की DMart के लिए Non-Current Assets कुल 4968.52 करोड़ के है।

    पिछले साल वह कुल 3666.06 करोड़ के थे। Balance sheet in Hindi

    उनमे Property, Plant और Equipment 4205.86 करोड़ के है।

    जो की कुल Non-Current Assets के 85 % है।

    जब और ज्यादतर सभी Super Marts के लिए ऐसा ही होता है।

    अगला है,

    Capital Work in Process :


    Capital Work in Process का मतलब है, वह खर्च जो कोई Assets बनाने के लिए किए गए है।

    जैसे DMart कोई नया Store खोलने वाला है, तो उसे बनाने का काम चल रहा हो सकता है।

    DMart के लिए यह खर्च है, 376.55 करोड़ यानी जब यह काम ख़त्म होगा तब DMart के Assets 376.55 करोड़ से बढ़ जाएंगे।

    यह खर्च पिछले साल 147.05 करोड़ था। Balance sheet in Hindi

    जितना यह खर्च ज्यादा उतना ही कंपनी अपने Assets ज्यादा बढ़ा रही है।

    जो बहुत अच्छी बात है।

    इसके बाद है,

    Investment Properties :

    Investment Properties वह संपतिया है, जो निवेश करने के लिए ही खरीदी गई हो।

    जिनसे कंपनी किराया कमाती हो या लम्बे समय में कीमत बढ़ने से मुनाफा होने के लिए खरीदी गई हो।

    DMart के लिए यह Investment Properties 18.10 करोड़ है, जो पिछले साल 16.33 करोड़ थी।

    अगला है,

    Intangible Assets :

    हमने जाना था की Intangible Assets वो संपत्ति है, जिसे हम छू नहीं सकते।

    DMart के लिए Intangible Assets में Computer Software और Trademarks है।

    जिसमे Computer Software की कीमत 10.26 करोड़ है। Balance sheet in Hindi

    और Trademarks की कीमत 0.01 करोड़ यानी 1 लाख रुपए है।

    अब है,

    Financial Assets :


    Financial Assets यानी वो संपत्ति जिसमे कंपनी ने सीधा पैसा निवेश किया हो।

    इसमें है,

    1) Investment in Subsidiaries :

    वह राशि जो कंपनी ने अपनी Subsidiaries यानी सहायक कंपनी में निवेश कर रखा हो।

    जैसे DMart ने अपनी Subsidiaries में कुल निवेश 212 करोड़ का कर रखा है।

    जिसमे से 177.46 करोड़ रुपए Avenue E-Commerce Ltd के Equity Share खरीद कर निवेश किए है,

    34.34 करोड़ रुपए Align Retail Trades Private Limited के Equity Share खरीद कर निवेश किए है।

    और बाकि के 20 लाख रुपए तीन अलग अलग Subsidiaries में निवेश किए है।

    जिसमे Balance sheet in Hindi

    Avenue Food Plaza Private Limited में 1 लाख ,

    Nahar Seth Jogani Developers Private Limited में 9 लाख और

    Reflect Wholesale Retail Private Limited में 10 लाख शामिल है।

    दूसरा है,

    2) Other Non-Current financial assets :


    इसमें 1 साल से ज्यादा समय के लिए कंपनी द्वारा जमा की गई Deposits शामिल है। Balance sheet in Hindi

    जिसमे Related Parties के और बैंक के पास 1 साल से ज्यादा समय के लिए जमा की गई Deposit शामिल है।

    DMart के लिए यह राशि 36.06 करोड़ है।

    अगला है,

    Other Non-Current Assets :


    बाकि के जो लम्बे समय के Assets है, वो Other Non-Current Assets में लिखे जाते है।

    DMart के लिए इसमें Capital Advances और Prepaid Expenses है।

    Capital Advances का मतलब है कोई जमींन या संपत्ति खरीदने के लिए Advance में दिया हुआ पैसा।

    DMart के लिए Capital Advance 89.24 करोड़ है और Prepaid Expenses 20.44 करोड़ है।

    इन सभी को मिलाकर DMart के लिए Total Non-Current Assets 4968.52 करोड़ के है।

    अब हम बात करते है,

    Current Assets के बारे में :


    Current Assets वो Assets है, जिन्हे हम 1 साल के अंदर अंदर उपयोग कर लेते है, या उनको Cash में बदल देते है।
    Balance Sheet of a Company
    इनमे सबसे पहला है,

    Inventories :

    DMart के लिए Inventories यानी Products जो अभी बिकी न हो वह है 1576.22 करोड़ की.

    इसके बाद है, Balance sheet in Hindi

    Investments :

    D’Mart का HDFC Liquid Fund – Growth में 33.93 करोड़ और ICICI Prudential Mutual Fund – Growth में 17.78 करोड़ का निवेश था।

    जो इस साल बेच दिया है, इस लिए इस साल उसके Investments नहीं है।

    उसके बाद है,

    Trade Receivable :


    यह वह पैसा है, जो की कंपनी के पास अभी तक आया नहीं है, लेकिन 1 साल के अंदर आ जाएगा।

    DMart के लिए यह पैसा 75.52 करोड़ है। Balance sheet in Hindi

    अगर किसी कंपनी के Trade Receivable लगातार बढ़ते ही जा रहे है, तो हमें उसके बारे में ज्यादा जानकारी लेनी चाहिए।

    की कंपनी बेचे हुए सामान का पैसा समय पर जुटा तो रही है, ना ?

    इसके बाद है ,

    Cash and cash equivalents :


    इसमें कंपनी के Current Bank खाते का पैसा और कंपनी के पास रखा पैसा आते है।

    DMart के लिए यह राशि 120.23 करोड़ है।

    कंपनी के पास ज्यादा Cash and Cash Equivalents होने का मतलब है, कंपनी अच्छा Cash Generate कर रही है।

    उसके बाद है, Balance sheet in Hindi

    Bank Balances Other than Cash and Cash Equivalents :

    इसमें कंपनी का वो पैसा शामिल है, जो कंपनी के पास सीधा सीधा तो नहीं है, लेकिन कभी भी वह पैसा निकाल सकती है।

    जैसे 1 साल से कम समय की Fixed Deposit .

    DMart के लिए यह राशि 93.32 करोड़ है।

    अब है, Balance sheet in Hindi

    Other Current Financial Assets :

    इसमें जैसे हमने पहले देखा किराए के लिए दी गई Deposit , Employees को दीया गया क़र्ज़ तथा ब्याज जो आने बाकि है, वह शामिल है।

    DMart के लिए यह राशि 59.18 करोड़ है।

    अब अगला और आखरी है,

    Other Current Assets :

    बाकि की जो 1 साल से कम समय की जो संपतिया है, वह इसमें शामिल है।

    जैसे Prepaid Expenses , Suppliers और Subsidiaries को दिया गया Advance .

    DMart के लिए यह राशि 104.58 करोड़ है। Balance sheet in Hindi

    पिछली post में हमने Quick Ratio के बारे में जाना था।

    तब हमें Prepaid Expenses खोजने की जरुरत पड़ी थी।

    हमने वहा पर बात की थी की Prepaid Expenses आपको Other Current Assets में मिल जाएंगे।

    जो यहाँ पर आप देख सकते है।

    Balance Sheet of a Company

    इन सभी को मिलाकर DMart के लिए Total Current Assets है 2029.05 करोड़

    और इसमें DMart के सभी Non-Current Assets मिलाकर बनेंगे Total Assets .

    जो DMart के लिए 6997.57 करोड़

    यानी DMart के लिए कुल मिलाकर सभी Assets होते है, 6997.57 करोड़

    Balance Sheet से जुड़े सवाल और उसके जवाब :

    Balance Sheet क्या होती है?

    बेलेन्स शीट एक वित्तीय स्टेटमेंट है जो की किसी भी कंपनी की संपतियाँ और दायित्वों को दर्शाती है।

    Balance Sheet का महत्व क्या है?

    बैलेन्स शीट किसी भी कंपनी की वित्तीय स्थिति जानने के लिए मूलभूत स्टेटमेंट मे से एक है। इसके बिना कंपनी की संपती और उसके दायित्व के बारे मे ठीक से पता नहीं चल सकता। जिस से उसकी आर्थिक स्थिति के बारे मे जान ना मुश्किल होता है।

    निष्कर्ष:

    आज हमने DMart की Balance Sheet के Assets को समझ लिया है।

    बाकी का आप हमारी दूसरी Post Balance Sheet in Hindi (Part 2) मे से पढ़ सकते है।

    उम्मीद करता हु दोस्तों आपको Balance Sheet of a Company के लिए DMart का उदाहरण समझ आया होगा।

    और यह आप लोगो के लिए उपयोगी साबित होगा। Balance sheet in Hindi

    Disclaimer : [मैंने DMart का उदहारण सिर्फ आपको समझाने के लिए ही लिया है।

    में कोई वित्तीय सलाहकार नहीं हु। इस लिए अपना कोई भी निवेश खुद के ज्ञान या कोई वित्तीय सलहाकार की सलाह पर ही करे। ]

    अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

    By Gaurav

    Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।