debt ratio kya hai?
    Rate this post

    Debt Ratio क्या होता है ?

    पिछली Post में हम Debt Service Coverage Ratio के बारे में बात कर चुके है।

    जो हमें बताता है, की कंपनी क्या कंपनी अपना पूरा क़र्ज़ ब्याज के साथ चूका सके उतना Profit करती है?

    आज हम एक और Ratio के बारे में बात करेंगे।

    यह Ratio है, Debt Ratio.

    हम जानेंगे की Debt Ratio क्या है ? उसका Formula क्या है ? और जानेंगे की किसी कंपनी के लिए यह Ratio कैसे पता करे ?

    तो आइए पहले जानते है की ,

     

    Debt Ratio होता क्या है ?

    Debt Ratio हमें यह बताता है, की किसी कंपनी या व्यक्ति के कुल Assets में से कितने % Assets क़र्ज़ लेकर लिए गए है।

    यानी हम इस Ratio में कंपनी की Total Debt और उसके Total Assets को Compare करते है।

    जिस से हमें यह पता चलता है की कंपनी की आर्थिक स्थिति कितनी जोखिम भरी या सुरक्षित है।

    और ज्यादा जोखिम भरी कंपनीओ में निवेश से हम बच सकते है।

    तो आइए अब जानते है की ,

     

    Debt Ratio का Formula क्या है ?

    जैसे हमने पहले बात की इस Ratio में हम Total Debt और Total Assets को Compare करते है।

    इस लिए जब हम किसी कंपनी की Total Debt को उसके Total Assets से विभाजित करते है, तब हमें Debt Ratio मिलता है।

    Copy%2Bof%2BCopy%2Bof%2BCopy%2Bof%2BInventory%2BNumber%2Bof%2BDays


    इस Ratio को हम दशांश संख्या या % के रूप में दिखाते है।

    जैसे अगर किसी कंपनी के लिए यह Ratio 0.5 है, तो उसे हम 50 % लिख सकते है।

    जिसका मतलब है उस कंपनी के 50 % Assets क़र्ज़ से लिए गए है।

    ऐसे में अगर किसी वजह से उस कंपनी को बेचना पड़े तो कंपनी के 50 % Assets तो सिर्फ उसका क़र्ज़ चुकाने में ही चले जाएंगे।

    जो की बहुत ज्यादा है।

    आम तौर पर सुरक्षित निवेश उन्ही कंपनी को माना जाता है, जिनके लिए यह Ratio 50 % से कम हो।

    लेकिन अलग अलग Sector में यह लिमिट अलग अलग होती है।

    Technology से जुड़ा काम करने वाली कंपनीओ में यह Ratio बहुत कम होता है, क्युकी उन्हें ज्यादा क़र्ज़ लेने की जरुरत नहीं होती।

    लेकिन जिन Sector में आम तौर पर बड़ा क़र्ज़ लेने की जरुरत होती है, उनके लिए यह Ratio थोड़ा ज्यादा होता है।

    फिर भी इसे थोड़ा सुरक्षित माना जा सकता है, क्युकी ऐसी कंपनीओ में आने वाला Cash Flow आम तौर पर निश्चित होता है।

    उदाहरण के तौर पर Power बनाने वाली कंपनी के Customer हर महीने Electricity का उपयोग करेंगे ही।

    और उसका Payment भी करेंगे।

    हम समान Industry की कंपनीओ के Debt Ratio की तुलना कर सकते है।

    जिसके लिए यह Ratio ज्यादा होगा वह बाकी कंपनीओ से ज्यादा जोखिम भरी होंगी।

    और ऐसी कंपनी में हम निवेश न कर के अपना जोखिम कम कर सकते है।

    तो आइए अब जानते है की ,

     

    किसी कंपनी का Debt Ratio कैसे खोजे?

    इस Ratio के formula के अनुसार हमें तीन चीज़ो की जरुरत होगी :

    • Short Term Borrowing (कम समय का क़र्ज़) ,
    • Long Term Borrowings (लम्बे समय का क़र्ज़)
    • और Total Assets (कुल संपतिया)

    यह तीनो ही हमें कंपनी की Balance Sheet में से मिल जाएंगी।

    Balance Sheet के बारे में हम पहले बात कर चुके है।

    लेकिन अगर आप Balance Sheet के बारे में नहीं जानते तो आप यहाँ से जान सकते है : Balance Sheet of a Company

    उदाहरण के तौर पर D’Mart के लिए यह तीनो चीज़ो चीज़े कुछ इस प्रकार है :

    debt ratio


    तो फिर D’Mart के लिए उसका

    Debt Ratio = ( 429.82 करोड़ / 7005.72 करोड़ ) = 0.061 यानी 6.13 % होगा।

    जो की बहुत कम है।

    इसका कारण है, की इस तरह का व्यापार करने वाली कंपनीया बहुत कम क़र्ज़ लेकर अपना व्यापार चला सकती है।

    इस तरह आप भी किसी भी कंपनी के लिए यह Ratio खोज सकते है।

    और पता कर सकते है, की उस कंपनी में निवेश करना कितना जोखिम भरा हो सकता है।

    जिस से हम बहुत जोखिम भरी कंपनीओ में निवेश से बच सकते है।

     

    निष्कर्ष :

    दोस्तों आज हमने सीखा की Debt Ratio क्या होता है ? उसका Formula क्या है ?

    और कैसे हम किसी कंपनी के लिए यह Ratio ख़ोज सकते है।

    दोस्तों उम्मीद करता हु आपके लिए यह जानकारी बहुत उपयोगी साबित होगी।

    Disclaimer : यहाँ पर मैंने D’Mart का उदाहरण केवल आपको समझाने के लिए ही लिया है।

    में कोई वित्तीय सलाहकार नहीं हु। इस लिए कोई भी निवेश खुद समझ कर या अपने वित्तीय सलाहकार की सलाह पर ही करे।

    धन्यवाद।

    अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

    By Gaurav

    Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।