Enterprise Value kya hai?
    Rate this post

    Enterprise Value.

    इस से पहले हम कंपनी के Market Capitalization के बारे में जान चुके है।

    हमने बात की थी Market Cap का मतलब है, कंपनी की बाजार में कुल कीमत।

    आज हम कंपनी की इस से अलग एक और कीमत के बारे में जानेंगे।

    यह कीमत है, Enterprise Value.

     

    Enterprise Value Meaning (Enterprise Value क्या होती है ?) :


    किसी भी कंपनी की Enterprise Value उसकी एक खरीददार के नजरिए से पूरी कीमत होती है।

    इस Value को EV भी कहा जाता है।

    जब भी हम किसी कंपनी को खरीदते है, तब हम उसके एक शेयर की कीमत के हिसाब से खरीदते है।

    अगर कोई कंपनी पूरी तरह से किसी और कंपनी को खरीदती है,तब वह भी उसके शेयर खरीदकर ऐसा कर सकती है।

    पूरी कंपनी को खरीदने के बाद उसकी संपत्ति के साथ ही उसके सभी दायित्व भी उसके खरीददार के नाम हो जाते है।

    जिस से वह सभी दायित्व भी नए मालिक को चुकाने पड़ते है।

    इस लिए जब भी किसी कंपनी दूसरी कंपनी को खरीद लेती है तब सिर्फ Market Capitalization के बदले उस कंपनी की Enterprise Value को ध्यान में लेती है।

    जिसमे Market Capitalization के साथ कंपनी के क़र्ज़ भी सामिल होते है।

    Enterprise Value Vs Equity Value :


    निचे के उदहारण से Enterprise Value और Equity Value को आसानी से समझ सकते है।
    Enterprise Value Vs Equity Value
    आपके किसी दोस्त ने 2 साल पहले 25 लाख में एक घर ख़रीदा था।

    जिसमे से 15 लाख रुपए उसने खुद चुकाए थे और बाकि के 10 लाख के लिए उसने बैंक से क़र्ज़ लिया था।

    उसमे से 2 लाख रुपए उसने चुका दिए थे।

    यानी अब उस घर पर सिर्फ 8 लाख रुपए का क़र्ज़ है।

    अब उसकी वित्तीय स्थिति बुरी हो जाने के कारण वह आपके पास आता है, और आपको उसका घर खरीदने के लिए कहता है।

    अब उस घर को वह आपको 18 लाख में बेचता है।

    जिस से आप उस की जगह पर उस घर के मालिक बन जाते है।

    लेकिन उस घर पर अभी भी 8 लाख रुपए का क़र्ज़ बाकि है, जो आपको चुकाना है।

    तभी आप उस घर के पूरी तरह से मालिक बन सकते है।

    यानि आपको वह घर की पूरी कीमत 18 लाख और 8 लाख मिलकर पुरे 26 लाख चुकानी पड़ेगी।

    उसमे से 18 लाख रुपए आपने अपने दोस्त को दिए इस लिए वह 18 लाख रुपए उस घर की Equity Value होगी।

    और पुरे 26 लाख रुपए उस घर की Enterprise Value होगी।

    इसी तरह किसी भी कंपनी के लिए भी Equity Value और Enterprise Value होती है।

    कंपनी का Market Capitalization कंपनी की Equity Value है।

    जबकि कंपनी की EV हमें खोजनी पड़ती है।

     

    Enterprise Value Formula :


    कंपनी की EV खोजने के लिए :

    1) कंपनी का Market Capitalization खोजे।

    Market Capitalization आप उस कंपनी के 1 शेयर की कीमत को कंपनी के Total Number of Share से Multiply कर के खोज सकते है।

    2) अब उस कंपनी की Balance Sheet में से उसकी Short Term Debt, Long Term Debt और Cash & Cash Equivalent पता करे।

    3) Market Capitalization में Short Term और Long Term Debt जोड़ दे।

    4) फिर उसमे से Cash & Cash Equivalent को घटा दे।

    अब जो कीमत मिलेगी वही होगी उस कंपनी की EV.

    Enterprise Value Vs Equity Value

    उदहारण के तौर पर कंपनी ABC के लिए :

    ABC LTD
    Total Number of Shares10 करोड़
    Share Price 100 रुपए
    Short Term Debt 20 करोड़
    Long Term Debt 70 करोड़
    Cash & Cash Equivalent 10 करोड़

    उसके लिए Market Capitalization = 10 करोड़ x 100 रुपए = 1000 करोड़ रुपए

    अब उसकी

    Enterprise Value = Market Capitalization + Short Term Debt + Long Term Debt – Cash & Cash Equivalent

    Enterprise Value = 1000 करोड़ + 20 करोड़ + 70 करोड़ – 10 करोड़ = 1080 करोड़

    होगी।

    इस तरह आप किसी भी कंपनी की Enterprise Value खोज सकते है।

    सिर्फ Market Capitalization के बदले EV को ध्यान में लेने से कंपनी की Debt कि स्थिति भी पता चलती है।

    क्युकी कुछ ऐसी Industries है, जहा पर Debt ज्यादा ही होती है, जैसे Power Generation और Steel Industry .

    इस लिए हमें EV के अनुसार किसी समान Industry की कंपनीओ की ही तुलना करे।

    तो दोस्तों यह थी Enterprise Value के बारे में पूरी जानकारी।

    उम्मीद करता हु आपके लिए यह जानकारी उपयोगी साबित हुई होगी।

    अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

    By Gaurav

    Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।