idcw meaning in mutual fund in hindi

आज हम जानेंगे की “IDCW Meaning in Mutual Fund in Hindi

दोस्तों आपने अक्सर देखा होगा की म्यूच्यूअल फंड्स में जैसे Direct Plan और Regular Plan होता है, उसी तरह Growth Option और Dividend Option भी होता है।

म्यूच्यूअल फंड्स से अच्छा रिटर्न पाने के लिए सिर्फ कौनसा म्यूच्यूअल फंड चुने ये ही जरुरी नहीं है।

साथ में ये भी जरुरी है की हम कौनसा option चुने।

कौनसा ऑप्शन हमारे लिए बेहतर होगा ये जान ने से पहले हम ये जान लेते है की

 


म्यूच्यूअल फंड्स में Growth Option चुनने पर आपको निवेश पूरी की अवधि के दौरान कोई डिवीडंड या फिर बोनस नहीं मिलता।

इसके बजाए आपके म्यूच्यूअल फंड की NAV बढ़ जाती है।

एक उदहारण से समजिये। IDCW Meaning in Mutual Fund in Hindi

यदि आपने किसी म्यूच्यूअल फंड के ग्रोथ ऑप्शन के द्वारा 5 साल पहले 40 की NAV पर निवेश किया था।

आज 5 साल के बाद उस फंड की NAV 80 है तो आपको मिलने वाला लाभ 40 प्रति यूनिट होगा।

 

2) Dividend Option : (IDCW Meaning in Mutual Fund in Hindi)

 

कई बार Mutual Funds मे Dividend Option को IDCW (Income Distribution Capital Withdrawal Option) भी कहाँ जाता है। 

म्यूच्यूअल फंड्स में Dividend Option चुन ने पर आपको निवेश पूरी की अवधि के दौरान डिवीडंड मिलता है।

हालाँकि Dividend की राशि और समय कुछ तय नहीं होता है। IDCW Meaning in Mutual Fund in Hindi

इस वजह से म्यूच्यूअल फंड की NAV कम हो जाती है।

एक उदहारण से समजिये।

यदि आपने किसी म्यूच्यूअल फंड के ग्रोथ ऑप्शन के द्वारा 1 साल पहले 40 की NAV पर निवेश किया था।

अगरआज 1 साल के बाद उस फंड की NAV 50 है। IDCW Meaning in Mutual Fund in Hindi

यदि म्यूच्यूअल फंड 3 रूपए का डिवीडंड की घोषणा करता है, तो डिवीडंड देने के बाद इस फंड की NAV 50 से कम हो कर 47 हो जाएगी।

 

हम कौनसा Option चुने ?


हमारे लिए कौनसा ऑप्शन बेहतर है वो हमें दो बातो से पता चलता है।

 

1) हमारी आवश्यकता :


यदि हमें निवेश की हुई राशि में से कुछ पैसे अवधि के ख़त्म होने से पहले चाहिए तो हमें Dividend option का चयन करना चाहिए।

और अगर हमें निवेश की हुई राशि में से अवधि के दौरान पैसा की जरुरत नहीं है तो हमें Growth Option का चयन करना चाहिए।

 

2) निवेश की अवधि :

 

i) 3 साल से कम के लिए :

 

 अगर आपकी निवेश की अवधि 3 साल से कम की है तो आप Debt Fund में Growth option चुने।

Debt Fund की वजह से जोखिम कम हो जाता है और Growth option की वजह से आपकी टैक्स स्लैब के अनुसार आपको tax में लाभ मिलता है। IDCW Meaning in Mutual Fund in Hindi

क्योकि debt fund में 3 साल से कम के निवेश पर tax, आपकी टैक्स स्लैब के हिसाब से लगता है।

यदि आप dividend option चुनेंगे तो म्यूच्यूअल फंड को Dividend distribution tax भरना पड़ेगा जोकि 29.12 प्रतिशत है।

मगर Growth option चुनने पर आपके टैक्स स्लैब के हिसाब से टैक्स भरना पड़ेगा।

अगर आप 5% या फिर 20 % के टैक्स स्लैब में है तो आपको लाभ मिलेगा।

 

ii) 3 साल से ज़्यादा के लिए :


यदि आप 3 साल से से 4 साल के लिए निवेश करना चाहते है तो भी आपको Debt Fund और Growth option ही चुनना चाहिए।

क्योकि dividend option में 29.12 प्रतिशत (सेंस और सरप्लस के साथ) टैक्स भरना पड़ेगा।

जबकि growth option में 3 साल से ज़्यादा की अवधि में इंडेक्सेशन के साथ 20 प्रतिशत ही टैक्स भरना पड़ता है।

और पढ़े : म्यूच्यूअल फंड में कौनसा प्लान चुने Regular Plan या फिर Direct Plan?

 

iii) 5 साल से ज्यादा के लिए :


यदि आप 5 साल या फिर उस से ज़्यादा की अवधि के लिए निवेश करना चाहते है। तो आपके लिए Equity Fund में Growth option ही चुने।
क्यूकी Equity fund में 1 साल से ज्यादा की अवधि में मिले हुए रिटर्न पर 10 प्रतिशत का टैक्स भरना पड़ेगा अगर मिला हुआ रिटर्न 1 लाख से ज्यादा है तो।

 

अगर dividend option चुनेंगे तो Dividend Distribution Tax भरा जाएगा जोकि 11.468 प्रतिशत होगा ( सेंस और सरप्लस के साथ)।

 

इस से हमें पता चलता है की यदि हमें dividend की जरुरत हो तो हि Dividend option चुनना चाहिए वरना Growth Option में ही ज्यादा लाभ है।

 

उम्मीद करता हु दोस्तों की आपको समझमे आ गया होगा की ‘Growth vs Dividend Option में से हमारे लिए कौनसा बेहतर है?’

 

दोस्तों यदि हमारी ये जानकारी से आपने कुछ अच्छा सीखा होतो हमारे Facebook page SIP TO LUMP SUM को Like करना ना भूले।
अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

By Gaurav

Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।