share analysis in hindi
    Rate this post

    Share Analysis in Hindi

    क्या आप शेयर बाजार में खुद से निवेश करना चाहते है ?

    तो आप सही जगह पर आए है।

    पिछली पोस्ट में हमने जाना था की शेयर बाजार में लम्बे समय का निवेश भी तीन तरीको से किया जाता है।

    अगर आपने वो तीन तरीके के बारे में नहीं पढ़ा तो निचे दिए गए लिंक से पहले उनके बारे में जरूर पढ़ ले।

    बढ़िया रिटर्न पाने के लिए ऐसे करे निवेश।

    जीस से आपको किस तरह लम्बे समय में निवेश करना है आप उसका चुनाव कर सके।

    आज हम जानेंगे ऐसे दो तरीके जीस से किसी शेयर का विश्लेषण किया जाता है।

     

    किसी शेयर का विश्लेषण करने के दो तरीके। (share analysis in Hindi)

    ज्यादातर निवेशक इन दो तरीको में से किसी एक या दोनों तरीको को मिला कर किसी भी शेयर का विश्लेषण करते है।

    • Fundamental Analysis of Stocks 
    • Technical Analysis of Stocks 

     

    1) Fundamental Analysis of Shares in Hindi :


    Fundamental Analysis में अपने नाम की तरह ही स्टॉक के पीछे की कंपनी के Fundamentals का विश्लेषण किया जाता है।

    How to Analyze a Stock ?


    जैसे ,

    • कंपनी का व्यापर क्या है ?
    • कंपनी कितना खर्च कर के कितना लाभ कमाती है ?
    • संपत्ति और दायित्व कितने है ?
    • कंपनी के पास कितना खुद का पैसा और कितना उधारी का पैसा है ?
    • बाजार में कितने प्रतिशत प्रोडक्ट या सर्विस कंपनी के बिकते है ?
    • कंपनी के संचालक कौन है ? Share Analysis in Hindi
    • कंपनी के भविष्य की योजनाए क्या है ?
    • भविष्य में कभी इसके प्रोडक्ट या सर्विस बिकना बंध हो सकते है ?
    • किन किन जगहों पर कंपनी के प्रोडक्ट या सर्विस बिकते है ?
    • कंपनी के ऑफिस कहा कहा पर है ?
    • अपने खर्च को कंपनी कैसे मैनेज करती है ?

    इन सभी चीज़ो के आलावा बहुत सी और भी बाते है, जिसके बारे में पता लगाना पड़ता है।

    और उसके बाद कंपनी के भविष्य में आने वाले cash flow का अनुमान लगाया जाता है। Share Analysis in Hindi

    फिर उसके अनुसार आज उस कंपनी का मूल्य कितना होगा और फिर एक शेयर का मूल्य कितना होगा उसके बारे में पता लगाया जाता है।

    फिर कंपनी के एक शेयर के मूल्य के अनुसार जब वह शेयर अच्छे खासे डिस्काउंट में मिल रहा होता है, तब उसे खरीदता है।

    और इस शेयर को लम्बे समय के लिए निवेश के तौर पर रखता है।

    इस तरह का विश्लेषण करने के लिए कंपनी के मुख्य तीन Statement का उपयोग किया जाता है।

     

    वह तीन स्टेटमेंट है :

    • Profit & Loss Statement – जिस से कंपनी की आय, खर्च और मुनाफे के संबंधित जानकारी मिलती है।
    • Balance Sheet – जिस से कंपनी की संपत्ति और दाइत्वों के बारे में जानकारी मिलती है।
    • और Cash Flow Statement -जिस से कंपनी में कितना पैसा अंदर आया और कितना बहार गया उसकी जानकारी मिलती है।

     

    यहाँ पढे : 1) Profit & Loss Statement in Hindi  2) Balance Sheet in Hindi  3) Cashflow Statement in Hindi

     

    2) Technical Analysis of Shares in Hindi:

    स्टॉक्स का विश्लेषण करने का दूसरा तरीका है, Technical Analysis .

    वैसे तो इस तरीके का उपयोग ज्यादातर लोग ट्रेडिंग करने के लिए करते है, Share Analysis in Hindi

    लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी है, जो इस तरीके से अच्छे शेयर खोज कर उस में लम्बे समय के लिए निवेश करते है।

    ऐसे लोग ज्यादातर Technical Analyst होते है।

    यह तरीका Fundamental Analysis से एकदम विरुद्ध है।

    इस तरीके में सिर्फ कंपनी के शेयर के दाम और उसमे हो रही खरीदारी और बिकवाली का विश्लेषण किया जाता है।

    ऐसा करने के लिए समय के साथ इन शेयर के दाम के Chart का अध्ययन किया जाता है।

    How to Analyze a Stock ?


    इस तरीके से विश्लेषण करने वाले लोग यह मानते है, की शेयर के दाम की गति विधि में उस शेयर की सभी जानकारिया छिपी होती है।

    जिस से हम सिर्फ कंपनी के शेयर के दाम और उसकी गति विधि का विश्लेषण करके भी निवेश या ट्रेडिंग कर सकते है।

    जैसे किसी शेयर में अचानक बहुत ज्यादा खरीदारी हो रही है जिस से उसका दाम बहुत ज्यादा बढ़ने लगा है, तो जरूर उसके बारे में कोई अच्छी खबर आने वाली है। Share Analysis in Hindi

    खेर इस तरीके से तो ट्रेडिंग की जाती है।

    लेकिन लम्बे समय के निवेश के लिए जो शेयर पहले से लम्बे समय में बहुत बढ़िया रिटर्न दे चुके है, उनके लम्बे समय के चार्ट की पैटर्न का अध्ययन किया जाता है।

    फिर उस ही तरह की पैटर्न को अलग अलग शेयर के चार्ट में ढूंढा जाता है।

    और ऐसे शेयर में से कुछ में निवेश किया जाता है। Share Analysis in Hindi

     

    एक जोखिम : How to Analyze a Stock ?

    इस तरीके के लम्बे समय के निवेश में भी वे एक निश्चित दाम का stop loss रखते है।

    यानि वे अपने निवेश को भी अगर उस निश्चित दाम से किसी कारण शेयर का दाम निचे चला जाए तो उसे बेच देते है।

    इस तरीके में इसी बात का जोखिम सबसे ज्यादा है, की Share Analysis in Hindi

    कभी आप शेयर का दाम देख न रहे हो और तब वह शेयर का दाम निश्चित मूल्य से कम हो जाए तो आपको नुकसान हो सकता है।

    इस वजह से सामान्य निवेशक लम्बे समय का निवेश इस तरीके से न करे तो ही उसके लिए अच्छा है।

    तो दोस्तों यह थे किसी स्टॉक विश्लेषण करने के दो तरीके।

    उम्मीद करता हु मैं आपको समझा पाया होगा की ‘शेयरो का विश्लेषण कैसे करे ? (How to Analyze a Stock ?)’ .

    Credit :

    First Image is Created By Business vector created by iconicbestiary – www.freepik.com 

    अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

    By Gaurav

    Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।