peg ratio kya hota hai?

PEG Ratio.

इस से पहले हम PE Ratio के बारे में जान चुके है।

तब हमने जाना था की अच्छी कंपनी के शेयर हमें 15 से कम PE Ratio होने पर ही खरीदने चाहिए।

लेकिन जब बाजार में बहुत तेज़ी चल रही होती है,तब ऐसा नहीं होता।

अच्छी कंपनीओ के शेयर सस्ते नहीं होते क्युकी कोई उसे बेचना नहीं चाहता।

इस लिए हमें अच्छी कंपनियां 15 से कम PE Ratio पर बहुत कम ही मिलती है।

लेकिन फिर भी हमें निवेश तो करना है और कुछ कंपनियां जो की 15 से कम PE Ratio वाली होती है, मगर अच्छी नहीं होती , उनमे तो निवेश कर नहीं सकते।

ऐसी स्थिति में किन कंपनीओ में निवेश किया जाए उसके लिए PEG Ratio का उपयोग होता है।

और आज हम उसके बारे में ही जानेंगे।

 

यहाँ पढे : 30% मुनाफा गिरने के बाद भी यह कंपनी देगी आपको 36% का dividend देगी।

 

PEG Ratio क्या है ?

यह एक Ratio है, जो हमें यह बताता है, की कंपनी की Growth के मुकाबले कंपनी का PE Ratio कितना है।

जिससे हमें यह पता लगता है, की कौनसा ज्यादा PE Ratio वाला शेयर खरीदने लायक है और कौनसा नहीं।

जिससे जब शेयर बाज़ार में बहुत तेज़ी होती है, तब भी हम अच्छी कंपनीओ में निवेश कर सकते है।

 

क्या है PEG Ratio Formula ?

PEG Ratio का formula है,

PEG Ratio

यहाँ पर PE Ratio हम शेयर के बाजार में दाम को उसके EPS से विभाजित कर के खोज सकते है।

और Earnings Annual Growth Rate हम पिछले साल का ले सकते है, या फिर आने वाले साल का अनुमानित Rate ले सकते है।

इस लिए PEG Ratio अलग अलग निवेशक के अनुसार अलग अलग हो सकता है।

 

यहाँ पढे : 1300 रुपए तक जा सकता है LIC का शेयर?

 

कैसे उपयोग करे PEG Ratio का ?

अगर किसी कंपनीका PE Ratio बहुत ज्यादा है, और वह कंपनी बहुत अच्छी है, तो हम उसके PEG Ratio का उपयोग कर सकते है।

जिस से हमें यह पता लगता है की हम उस कंपनी में निवेश कर सकते है, या नहीं ?

अगर PEG Ratio 1 या उस से कम है, तो Earnings Growth के मुकाबले कंपनी का PE Ratio कम है।

उस कंपनी में ज्यादा PE Ratio होने पर भी निवेश किया जा सकता है।

क्युकी वह कंपनी भविष्य में EPS बढ़ जाने से सस्ती हो जाएगी।

और अगर PEG Ratio 1 से ज्यादा है, तो उसकी Earnings Growth के मुकाबले कंपनी का PE Ratio ज्यादा है।

तब हमें उस कंपनी में निवेश नहीं करना चाहिए।

PEG Ratio

उदाहरण के तौर पर कंपनी ABC के एक शेयर का दाम है, 300 रुपए और उसका EPS है, 15 रुपए।

और उस कंपनी का पिछले साल का Earnings Growth है , 25 % .

इस तरह कंपनी का PE Ratio होगा 20 x (times).

और उसका

PEG Ratio = 20 / 25 = 0.8  होगा।

जो की 1 से कम है, तो उस कंपनी में तो हम उसमे निवेश कर सकते है।

हा लेकिन बाकी बहुत सी चीज़ो को भी देखना पड़ेगा।

सिर्फ PEG Ratio के आधार पर निवेश नहीं किया जा सकता।

इसी तरह आप भी किसी भी कंपनी के लिए जान सकते है, की उसमे PE Ratio ज्यादा होने पर निवेश कर सकते है, या नहीं।

तो दोस्तो यहाँ आपने सीखा की PEG Ratio क्या होता है और हम PEG Ratio के उपयोग से हम केसे किसी कंपनी के शेयर का Price ज्यादा है या फिर कम है। जिसके बाद हम अपने निवेश के बारे मे सही सही फेसला ले सकते है।

तो दोस्तों उम्मीद करता हु की यह जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होगी।

अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

By Gaurav

Gaurav Popat एक निवेशक, ट्रेडर और ब्लॉगर है, जो की शेयर बाज़ार मे बहुत रुचि रखता है। वह साल 2015 से शेयर बाज़ार मे है। पिछले 7 साल मे खुद अलग अलग जगह से सीख कर और अनुभव के आधार पर शेयर बाज़ार और निवेश के विषय मे यहा पर जानकारी देता है।